दर्जाधारी मधु भट्ट ने जोशीमठ को पुरातन ज्योतिर्मठ के नाम होने पर हर्ष व्यक्त किया,कहा ज्योतिर्मठ नाम पुरातन है

0
10

चमोली जनपद के जोशीमठ को पुरातन ज्योतिर्मठ के नाम होने पर हर्ष व्यक्त किया
ज्योतिर्मठ नाम पुरातन है: श्रीमती मधु भट्ट

देहरादून। चमोली जनपद के जोशीमठ को पुरातन ज्योतिर्मठ के नाम होने पर हर्ष व्यक्त किया है। बता दें कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बीते वर्ष चमोली जिले के घाट में आयोजित कार्यक्रम में जोशीमठ का नाम बदलकर ज्योतिर्मठ करने की घोषणा की थी। अब केंद्र ने ज्योतिर्मठ तहसील के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके लिए लोगों ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री व केंद्र सरकार की कोटि-कोटि आभार व्यक्त किया है।

उत्तराखंड संस्कृत, साहित्य एवं कला परिषद के तत्वाधान में हुई बैठक में परिषद की उपाध्यक्ष मधु भट्ट ने कहा कि ज्योतिर्मठ नाम पुरातन है। 8वीं सदी में आदि गुरु शंकराचार्य इस क्षेत्र में आए थे। उन्होंने अमर कल्प वृक्ष के नीचे तपस्या की थी, जिससे उन्हें दिव्य ज्ञान ज्योति की प्राप्ति हुई थी। दिव्य ज्ञान ज्योति और ज्योतेश्वर महादेव की वजह से इस स्थान को ज्योतिर्मठ का नाम दिया गया। उन्होंने कहा कि चार विद्यापीठों में से एक नाम ज्योतिर्मठ भी था। उन्होंने कहा कि आज कैंची धाम के दर्शन के लिए लोग दूर दराज, विदेश से भी यहां आ रहे हैं यहां दोनों नाम विश्व पटल पर आ जाएगा साथ ही गूगल पर भी दिखाई देने लगेंगे।

इस अवसर पर उत्तराखंड महिला एसोसिएशन  की अध्यक्ष साधना शर्मा, महामंडलेश्वर स्वामी ललित नंद गिरी, महंत भारत माता मंदिर पूर्व धर्माधिकारी भुवन चंद उनियाल, डॉक्टर संजीव कुमार शर्मा आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here